Skip to Content

Thursday, November 26th, 2020

ईएसएल ने नाबार्ड और जीएसएस के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर किया

Be First!
image_pdfimage_print

बोकारो। ईएसएल स्टील लिमिटेड ने पीपीपी (पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप) मॉडल के तहत नेशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट (NABARD) और ग्रामीण सेवा संग  (GSS) के साथ समझौता किया, जिसका उदेश्य कृषि आधारित आजीविका बनाना है। इस परियोजना के अंदर 500 किसानों और ईएसएल सीएसआर परिचालन के आसपास क्षेत्र के 500 एकड़ कृषि हब विकसित करने का अवसर मिलेगा। समझौते पर श्री एके पाधी, सीजीएम, नाबार्ड,  पंकज मल्हान, सीईओ, ईएसएल स्टील लिमिटेड और विकाश राव साठे, सचिव, जीएसएस द्वारा हस्ताक्षर किए गया।

इस अनोखी परियोजना के चार भाग हैं: मृदा और जल प्रबंधन, बाग विकास, स्थायी कृषि और किसानों पर आधारित संस्थान का विकास।

इस नए पहल पर, ईएसएल स्टील लिमिटेड के सीईओ, पंकज मल्हान ने कहा, “वाडी परियोजना के तहत, गॉंववालो को खेती के साथ-साथ उनकी सूखी भूमि में एक एकड़ बाग विकसित करने के लिए समर्थन दिया जाएगा। मुझे इस पहल पर आशा और गर्व है जो किसानों को नए अवसर प्रदान करेगा और उन्हें एक उज्जवल भविष्य प्रदान करेगा। मैं नाबार्ड और जीएसएस को गॉंववालो की मदद और समर्थन करने के लिए  धन्यवाद देता हूं। ”

जनजातीय समुदायों वाले गाँव जो परियोजना से लाभान्वित होंगे, वे ESL के परिचालन क्षेत्र  हैं। वाडी परियोजना के दिशानिर्देशों के अनुसार, 90% लाभार्थी आदिवासी समुदाय से होगा AUR गाँव की कुल आबादी का लगभग 35 से 40 प्रतिशत लोग लाभान्वित होंगे |

ए.के. पाधी, नाबार्ड के सीजीएम,ने कहा, “नाबार्ड का उद्देश्य कृषि के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करना और ग्रामीण विकास को बढ़ावा देना है। वाडी परियोजना के लिए हमें ईएसएल स्टील लिमिटेड और जीएसएस के साथ जुड़ने की बहुत  खुशी है। मुझे विश्वास हैं की यह समझौता  भारत के विकास में योगदान देगा। ”

जीएएसएस के सचिव विकाश राव साठे ने कहा, “हम नाबार्ड और ईएसएल स्टील लिमिटेड के साथ इस संबंध को महत्व देते हैं क्योंकि हम सभी एक सामान्य कारण – आदिवासी आजीविका के लिए खड़े हैं। इस परियोजना का उद्देश्य जल संरक्षण के माध्यम से आजीविका को बढ़ावा देनाऔर मौजूदा कृषि हस्तक्षेप को नया स्वरूप देना है। हमें उम्मीद है कि वाडी परियोजना को सफल बनाने में हमारे प्रयास महत्वपूर्ण रहेंगे। ”

 

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*