ईएसएल ने पंजाब और बिहार को भेजा मेडिकल ऑक्सीजन

जीएनएस। बोकारोः ईएसएल स्टील लिमिटेड वेदांता ग्रुप में नेशनल स्टील प्लेयर के तौर पर विख्यात है। कंपनी ने बोकारो के पास स्थित सियालजोरी प्लांट को एमओएचएफडब्ल्यू और स्टील मिनिस्ट्री की आवश्यकता के अनुरूप लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन सप्लाई उपलब्ध करवाने के लिए रजिस्टर करवाया है।

वेदांता ग्रुप कोरोना महामारी की दूसरी लहर से निपटने के लिए सरकार द्वारा उठाए जा रहे प्रयासों के साथ जुड़ा है। दूसरी कंपनियों की तरह ईएसएल  स्टील लिमिटेड ने भी ऑक्सीजन सप्लाई बढ़ाने की दिशा में कदम बढ़ाया है ताकि वेदांता केयर प्रयासों के तहत कोविड-19 के मरीजों की मदद की जा सके।

ईएसएल ग्रीन कॉरिडोर के जरिए लिक्विड ऑक्सीजन डिलीवर करने के लिए प्रतिबद्ध है ताकि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण  मंत्रालय और स्टील मंत्रालय द्वारा मांगी गई ऑक्सीजन को जल्द से जल्द मुहैया करवा सके। ईएसएल पंजाब और बिहार में गंभीर मरीजों के लिए तेजी से ऑक्सीजन कंटेनर्स भेजकर जीवन बचाने का काम कर रहा है।

इस मौके पर ईएसएल स्टील लिमिटेड के सीईओ एन.एल. व्हाट्टे ने कहा, “हमने हमारे प्लांट को लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन सप्लाई के तौर पर रजिस्टर्ड करवाया है। हम स्टील मिनिस्ट्री के मुताबिक, प्रतिदिन मेडिकल ऑक्सीजन सप्लाई डिलिवर करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम महामारी से लड़ने के लिए सरकार की हर संभव मदद करने के लिए तैयार हैं। सरकार की जरूरतों को पूरा करने के लिए अपनी सुविधाएं जितनी बढ़ा सकते हैं, हम बढ़ाएंगे।”

प्रायवेट सेक्टर के स्टील मेकर्स देशभर के कई इलाकों में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए 1.43 मीट्रिक टन लिक्विड ऑक्सीजन सप्लाई भेज चुके हैं। इसके बाद भी ऑक्सीजन की जरूरत जस की तस बनी हुई है। कोरोना मरीजों के इलाज के लिए और भी स्टील कंपनियां आगे आ रही हैं।

ईएसएल स्टील लिमिटेड अपने प्लांट में हर संभव सावधानी और संसाधनों का इस्तेमाल कर रहा है ताकि महामारी से कर्मचारी भी बचे रहें। प्लांट परिसर और कार्यालयों में अंतराल के आधार पर सैनिटाइजेशन भी हो रहा है। प्लांट के आसपास मौजूद समुदायों में सैनिटाइजेशन ड्राइव के साथ-साथ कैंप्स भी लगाए जा रहे हैं ताकि कोविड-19 को लेकर जागरूकता के स्तर को और बढ़ाया जा सके। महामारी के दौरान कंपनी कर्मचारियों और उनके परिजनों की सुरक्षा को लेकर प्रतिबद्ध है।