Skip to Content

Tuesday, November 30th, 2021

‘जाति धर्म के नाम पर नहि बांटू इंसान के…’

Be First!
image_pdfimage_print
#राष्ट्रीय कवि संगम द्वारा काव्य लहरी-4 कार्यक्रम आयोजित

बोकारो। अखिल भारतीय साहित्यिक संस्था राष्ट्रीय कवि संगम के झारखंड प्रांत इकाई द्वारा शनिवार की देर शाम गूगल मीट पर काव्य लहरी-4 कार्यक्रम का आयोजन किया गया। राष्ट्रीय कवि संगम के प्रांतीय अध्यक्ष व समाजसेवी सुनील खवाड़े की अध्यक्षता, प्रांतीय संगठन सचिव राकेश नाजुक के संयोजन व दुमका जिला इकाई अध्यक्ष रोहित अम्बष्ट के संचालन में आयोजित इस काव्यगोष्ठी में बोकारो से कवि व राष्ट्रीय कवि संगम बोकारो महानगर अध्यक्ष अरुण पाठक, कवयित्री कल्पना झा, गीता कुमारी गुस्ताख, रांची से सदानंद सिंह यादव, गीता चौबे गूंज, धनबाद से शालिनी खन्ना, देवघर से शिप्रा झा, माला द्वारी, रामगढ़ से राज रामगढ़ी, गुलाब अग्रवाल, हजारीबाग से अनिता महतो, सुशांत पाठक, जमशेदपुर से कुमार मनीष, डॉ रागिनी भूषण, दुमका से उत्तम लयकार, विष्णुदेव महतो अलबेला, जामताड़ा से नरेश कुमार बर्मन, सुमन राय ने काव्य पाठ किया।

बोकारो महानगर इकाई से कवि अरुण पाठक ने मैथिली में सद्भावना गीत ‘जाति धर्म के नाम पर नहि बांटू इंसान के…’, कवयित्री कल्पना झा ने ‘कविता की मनः स्थिति’, गीता कुमारी गुस्ताख ने ‘चल उड़ चल हारिल लिए हाथ में यही अकेला ओछा तिनका…’, रांची से गीता चौबे गूंज ने ‘तन के संग-संग भीगा है, मन भी आज बारिश में/राग छेड़ जाती ये बूंदे, सजता है साज बारिश में…’, सदानंद सिंह यादव ने कोरोना काल में निजी अस्पतालों की मुनाफाखोरी पर  ‘इलाज के नाम पर ठगेय निजी अस्पताल रे जान…’, देवघर से शिप्रा झा ने ‘यूं ही नहीं आती हैं बहारें, फूल खिलाना होगा…’, माला द्वारी ने ‘खुशियां बिखरी हैं चारों ओर…’, धनबाद से शालिनी खन्ना ने ‘मुश्किल में है मध्यवर्ग, कोई इसके आंसू पोछो/सरकार चलानेवालों कुछ इनके बारे में सोचो…’, रामगढ़ से राज रामगढ़ी ने ‘लहू में लाबा उबल रहा है, जिगर में जज्बा मचल रहा है/जो कुर्बानियों के मंुतजिर हैं, सुकूं उन्हीं से ही पल रहा है…’ सुनाकर सबकी दाद पाई।

राष्ट्रीय मंत्री सह प्रांतीय प्रभारी दिनेश देवघरिया ने पठित रचनाओं की प्रशंसा की और कहा कि काव्य लहरी का आयोजन एक प्रशंसनीय पहल है। अगले महीने होनेवाले प्रांतीय अधिवेशन की तैयारियों को भी इससे बल मिला है। अध्यक्षीय वक्तव्य में सुनील खवाड़े ने कहा कि साप्ताहिक ‘काव्य-लहरी’ में प्रांत के विभिन्न जिलों से कवि-कवयित्रियों की उत्साहपूर्ण भागीदारी काबिलेतारीफ है। सफल आयोजन के लिए उन्होंने आयोजन से जुड़े सभी पदाधिकारियों व जिला इकाईयों की प्रशंसा की। कार्यक्रम के दौरान प्रांतीय उपाध्यक्ष उदय शंकर उपाध्याय, प्रांतीय संगठन सचिव राकेश नाजुक, सोशल मीडिया सहयोगी पियुष राज सहित विभिन्न जिलों के अध्यक्ष, महासचिव व सदस्य उपस्थित रहे।

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*