Skip to Content

स्वामी चिन्मयानंद सरस्वती की 107वी जयंती मनाई गई 

Be First!
image_pdfimage_print
चिन्मय विद्यालय के तपोवन सभागार में पूरी भव्यता एवम आध्यात्मिकता से सरावोर संत परम पूज्य स्वामी चिन्मयानंद सरस्वती की 107वी जयंती मनाई गई  । इस अवसर पर विद्यालय के सभी शिक्षक एवम शिक्षक शिक्षकेत्तर गण उपस्थित थे। जिन्होंने पूरी श्रद्धा से परम् पूज्य गुरुदेव के 108 नामों का पाठ किया एवम पूरी तन्मयता से उनके चरणों को स्मरण करते हुए भक्ति भाव से परिपूर्ण मधुर भजनों का गान किया।
इस पुनीत यज्ञ की आचार्या परम् पूज्या स्वामिनी संयुक्तानंदा सरस्वती ने अति भावुक होते हुए परम् पूज्य गुरुदेव के महानतम गुणों का वर्णन किया और साथ ही बड़े ही मार्मिक ढंग से गुरुत्व का सही विवेचन किया। उन्होंने कहा कि इस पृथ्वी पर हमने भगवान को देखा नही है लेकिन भगवान सदगुरु के रूप में हमारे जीवन में आते है । वह मनुष्य अतिभाग्यशाली है जिसपर सद्गुरु की कृपादृष्टि होती है।
गुरु की कृपा से इसके अन्तस् मन के तमस तो दूर होता ही है, जीवन की विपरीत परिस्थितियों में गुरु अपना हाथ बढ़ाकर कल्याण करते है। गुरु की कृपा से न केवल आध्यात्मिक उन्नति होती है वरण प्रचुर भौतिक सुखों की भी प्राप्ति होती है। इसलिए हमेशा अपने गुरु को स्मरण करे। गुरु पर विश्वास कर एवम भगवान मान कर उनकी आराधना करें। हम सब अत्यंत भाग्यशाली हैं कि गुरुदेव स्वामी  चिन्मयानंद के आदर्श पर स्थापित चिन्मय विद्यालय के सदस्य हैं। यह सिर्फ एक विद्यालय नही है यह ज्ञान का महापुनज है, तप का महातेज है क्योंकि यहाँ परमपूज्य गुरुदेव से लेकर अनेक महान संत पधार चुके है। जिन्होंने अपने तपांश से इस विद्यालय को ऊर्जावान किया है। आप सभी भगवान, आत्मा एवम गुरु में भेद का करें।
गुरु को अपना भगवान मैन कर हमेशा स्मरण करें। गुरु हमे सभी समस्याओं एवम कष्टों से दूर कर अनंत आनंद सागर में स्वतंत्र विचरण करने योग्य बना देंगे। इस शुभ अवसर पर पूजा अर्चना में विद्यालय के अध्यक्ष बिशरूप मुखोपाध्याय, सचिव महेश त्रिपाठी, प्रभारी प्राचार्य गौतम कुमार नाग, पूर्व प्राचार्य अशोक झा ने भाग लिया एवम पूजा अर्चना की।
Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*