साहित्यलोक के ऑनलाइन  कवि सम्मेलन में बही काव्यरस की फुहार

बोकारो। बोकारो की चर्चित साहित्यिक संस्था ‘साहित्यलोक’ द्वारा रविवार को ऑनलाइन कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। भारतीय वन सेवा के वरिष्ठ अधिकारी व साहित्य अकादेमी पुरस्कार प्राप्त ख्यातिप्राप्त साहित्यकार कुमार मनीष अरविन्द (रांची) की अध्यक्षता व कवयित्री रेखा झा (दिल्ली) के संचालन में आयोजित इस कवि सम्मेलन में दिल्ली से जुड़े गिरिजा नंद झा ‘अर्धनारीश्वर’ ने आत्मकथा के अंश, कोलकाता से जुड़े डाॅ संतोष कुमार झा ने मैथिली कविता ‘ओरियाओन मे लागल ई जिंदगी’, दिल्ली से ही जुड़े डाॅ विवेक झा ने हिंदी कविता ‘कुछ तो कहो’ व ‘नाटक जारी है’, रेखा झा व डाॅ अंजू झा ने राष्ट्रीय बेटी दिवस पर बेटी के महत्व पर केंद्रित रचना, बोकारो से राजेन्द्र कुमार ने ‘दोस्त’, साहित्यलोक के संयोजक अमन कुमार झा ने ‘अर्धनारीश्वर’, अरुण पाठक ने मैथिली में होली गीत व कुमार मनीष अरविन्द ने हिंदी में ‘जंगल से आए हम’ व मैथिली में ‘जंगल सं घुरिक अयला पर’ सुनाकर सबको प्रभावित किया।
साहित्यलोक के संस्थापक महासचिव तुला नन्द मिश्र, पूर्व महासचिव गिरिजानन्द झा ‘अर्धनारीश्वर’, गोष्ठी के अध्यक्ष कुमार मनीष अरविन्द, कोशी संदेश पत्रिका के प्रबंध संपादक शंभु नाथ मिश्र ने पठित रचनाओं पर समीक्षा टिप्पणी दी।
अध्यक्षीय वक्तव्य में मनीष अरविन्द ने कहा कि नये रचनाकारों को प्रोत्साहित करने में साहित्यलोक की महती भूमिका है। तुला नन्द मिश्र ने कहा कि गोष्ठियों का सिलसिला निरंतर जारी रहे। संचालन कर रहीं रेखा झा ने कहा कि साहित्यलोक से जुड़कर उन्हें काफी प्रसन्नता हुई है। डाॅ अंजू झा ने भी साहित्यलोक से जुड़कर प्रसन्नता जताई।

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*